माउंट आबू पर्यटन स्थल की पूरी जानकारी | Mount Abu Visiting Places
Best Places to visit in Mount Abu | Mount Abu Places | Rajasthan Tourism

माउंट आबू पर्यटन स्थल की पूरी जानकारी | Mount Abu Visiting Places

माउंट आबू में घूमने के लिए बेस्ट टूरिस्ट प्लेस | Best Places to Visit in Mount Abu in Hindi | Mount Abu Visiting Places | Things To Do In Mount Abu | Mount Abu Travel Guide

माउंट आबू का इतिहास - History of Mount Abu inn Hindi

A View of Aravali Hills in Mount Abu

कहते है की एक बहुत शक्तिशाली सांप था आरबुआदा जिसने भगवान शिव के पवित्र वाहन नंदी को गहरी खाई में गिरने से बचाया था और एक कहावत ये भी है की  इस जगह का नाम हिमालय पुत्र आरबुआदा के नाम पर रखा गया है मैं जिस जगह के बारे में आप से बात कर रहा हुँ उस जगह को राजस्थान का शिमला भी कहते है वैसे तो ये आबू पर्वत है लेकिन में आप और बाकी सभी इस जगह को माउंट आबू के नाम से जानते है ।

माउंट आबू भौगोलिक परिस्थिति :-

780-750 मिलियन साल पहले एक मेगमैटिक गतिविधि होती है जिससे अरावली ऑरोजेनिक बेल्ट के पश्चिमी हिस्से को प्रभावित कर देती है ये एक बहुत ही लंबे मेगामटिज़्म के चलने वाले चरण का परिणाम था ।

जब मैंने गूगल पर माउण्ट आबू की भौगोलिक स्थिति की बारे में जानने की कोशिस शुरू की तो ये पता चला की एक यह ग्रेनाइट का एक बहुत ही बड़ा पिंड है जिसे साइंस की भाषा में बाथोलिथ कहते है वैसे तो माउंट आबू मालानी इगनिस सुइट का एक हिस्सा है और इस शब्द का ज्यादातर उपयोग फेलसिक आग्नेय चट्टानों (सिलिकाएल्यूमीनियम और पोटेशियम में समृद्ध मैग्मा) को माउंट आबू बाथोलिथलावा फ़ील्ड जैसे ज्वालामुखी (मालानी जिहोलिटिस) और माफ़िक (लोहामैग्नीशियमकैल्शियम) से उत्पन्न बड़े क्षेत्रों से लेकर है। तो ये थोड़ी बहुत भौगोलिक परिस्थिति है माउण्ट आबू की शायद आप के थोड़ा बहुत काम आ जाए………

Image Source:- Wikipedia

इतिहास या कहानी

वैसे तो माउंट आबू का इतिहास 780-750 मिलियन से भी ज्यादा समय पुराना है , लेकिन में इतना पीछे नहीं जाऊंगा… भौगोलिक परिस्थिति तो में पहले ही आप को बात चुका हूँ अब शुरू करते है पौराणिक इतिहास , राजपूत राजाओं का इतिहास और ब्रिटिश इतिहास से वो भी थोड़ा-थोड़ा……

Mount Abu Visiting Places

A View of Aravali Hills in Mount Abu

पौराणिक कथा

बहुत ही विख्यात ऋषि थे गुरु वशिष्ठ एक सप्तऋषि जिन्हें की ईश्वर के द्वारा बाकी सात ऋषियोँ के साथ सत्य का ज्ञान प्राप्त हुआ और जिनका वेदों की रचना करने में बहुत बड़ा योगदान है , उनकी पत्नी अरुंधति थी ( जिनका हिन्दू मान्यतों में बहुत बड़ा महत्व है) , गुरु वशिष्ठ भगवान राम के गुरु थे और राजा दशरथ के राजकुल गुरु भी थे, सौरमंडल के सात तारों के समूह की पंक्ति के एक स्थान पर गुरु वशिष्ठ को भी स्थित माना जाता है ।

अब शुरू होती है असली कहानी वैसे ये बताना जरूरी था की गुरु वशिष्ठ कौन थे , नहीं तो ये सब आप के ऊपर से जाता, हुआ यूँ की गुरु वशिष्ठ के पास एक गाय थी कामधेनु ( कामधेनु गाय का हिन्दू पुराणो में बहुत महत्व है ) और उसकी पुत्री थी नंदिनी जो की एक दिन एक गहरी खाई में गिर गई। गुरु वशिष्ठ ने अपनी गाय को बचाने में मदद करने के लिए भगवान शिव को बुलाया। भगवान शिव ने गहरी खाई को भरने के लिए पवित्र नदी सरस्वती को भेजा, जिससे उस गहरी खाई का कण्ठ भर गया और गाय सतह पर तैरने लगी।

गुरु वशिष्ठ ने यह सुनिश्चित करने का निर्णय लिया कि इस तरह की बात फिर से नहीं होगी। तो उन्होंने पर्वत हिमालय के सबसे छोटे पुत्र नंदी वर्धन को कहा कि वह यहां बस जाए और एक बार घाट को भर दे। नंदी वर्धन ने गुरु वशिष्ठ के प्रस्ताव को स्वीकार किया, और शक्तिशाली उड़ने वाले सांप अरबुद नाग की पीठ पर पहुंचे, जिन्होंने पर्वत को अपनी सेवाओं की मान्यता के लिए उनका नाम लेने के लिए कहा। इसलिए उस स्थान को माउंट आर्बुद कहा जाता था, जो समय के साथ अपने वर्तमान नाम माउंट आबू में बदल गया।

Places to visit in Mount Abu

Mount Abu Wildlife Sanctuary

इतिहास के अंश

ऐतिहासिक प्रमाणों के अनुसार, माउंट आबू क्षेत्र के बाहर किसी भी शासक द्वारा शासन नहीं किया गया था। यहाँ के घने जंगलो के साथ-साथ कठिन इलाको के कारण इस जगह पर विजय पाना लगभग असंभव था । माउंट आबू के बारे में वास्तविक ऐतिहासिक जानकारी की कमी है लेकिन स्थानीय लोग इस क्षेत्र के विभिन्न मिथकों पर अधिक विश्वास करते हैं।

इस क्षेत्र के सबसे पहले ज्ञात कबीले नागा और भील हैं। 916AD में पहला शासक धुम्रजा था, जिसे परमार के नाम से भी जाना जाता था, जिसका अर्थ है दुश्मन का कातिल। इसके बाद सोलंकी आए, जो मास्टर आर्किटेक्ट थे। उनकी वास्तुकला विश्व प्रसिद्ध थी, जिसका उदाहरण यहाँ का प्रसिद्ध पुराना देलवाड़ा मंदिर है।

इसके बाद आता है वर्ष 1311 देवरा चौहान वंश के राजा राव लुम्बा ने परमार पर आक्रमण करके माउंट आबू पर अपना आधिपत्य जमा लिया और इस तरह शुरू हुआ देवरा चौहान वंश का शासन लेकिन उन्होंने उस समय माउंट आबू पर शासन करना बंद कर दिया था। बाद में उन्होंने अपनी राजधानी को चंद्रावती में स्थानांतरित कर दिया जो कि एक मैदानी क्षेत्र था, इस क्षेत्र को वर्ष 1405 में नष्ट कर दिया गया था और राव शशमल नामक एक अन्य राजा ने अपनी राजधानी या मुख्यालय के रूप में जगह बनाई। उन्होंने सिरोही में अपनी राजधानी बनाई और राज्य के राजा बने।

माउंट आबू का इतिहास - History of Mount Abu in Hindi

Mount Abu Wildlife Sanctuary

जब अकबर का शासनकाल था तब पूरे राजस्थान के साथ माउंट आबू भी मुगल साम्राज्य के अधीन आ गया था और मुगल युग के दौरान, माउंट आबू ने अपने वास्तिविक को महत्व खो दिया और यह एक छोटा पहाड़ी क्षेत्र बना रहा। समय के साथ जब मुगल युग का पतन हुआ और ब्रिटिश साम्राज्य का उदय हुआ तो उसके के साथ ही इस क्षेत्र ने अपना महत्व बढ़ाया। उस समय राजस्थान राज्य राजपुताना शासन के अधीन था, लेकिन इस क्षेत्र के राजपूत राजाओ ने अंग्रेजों के साथ गठबंधन कर रखा था और शांति से शासन करते थे ।

बाद में कर्नल टॉड ने इस रमणीय स्थल को फिर से खोजा और माउंट आबू को राजपुताना राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाया (राजस्थान में आज भी गर्मियों के मौसम में एक महीने के लिए ग्रीष्मकालीन राजधानी माउंट आबू है), समय के साथ माउंट आबू को राजपूत शासकों के बीच महत्व मिला, जिन्होंने इस क्षेत्र में भव्य महल और “वकालत हाउस” बनाया।

अंग्रेजों ने समय के साथ इस क्षेत्र में कई कॉन्वेंट स्कूल और अर्धसैनिक छावनी बना दिए थे। माउंट आबू को मैदानी इलाकों से जोड़ने वाली एक सड़क आबू रोड (जिसे खारड़ी भी कहा जाता है) थी, जिसे द्वितीय विश्व युद्ध के बाद महत्व मिला। यह वह समय था जब ब्रिटिश शासन समाप्त होने के कगार पर था और भारत अपनी स्वतंत्रता हासिल करने वाला था। भारतीय संविधान का गठन 1950 में हुआ, जिसमें पूरे भारत में पर्यटन उद्योग को महत्व मिला। आज राजस्थान की गर्मी के बीच अद्भुत ठंडे मौसम का आनंद लेने के लिए माउंट आबू एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल बन गया, जिसने पूरे भारत में लोगों का स्वागत किया।

माउंट आबू राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है और उसके साथ ही अरावली पर्वतमाला का सबसे ऊंचा पर्वत गुरु शिखर यहीं पर स्थिति है, इसलिए में आप को थोड़ा सा इसकी लम्बाई और चौड़ाई के बारे में भी आप सब को थोड़ी जानकारी दे देता हूँ वैसे ये सबसे ज्यादा आम बात है की बाकी सब लोग भी इसके बारे में बताते है…..

माउंट आबू राजस्थान और गुजरात की सीमाओं के बीच स्थित है और मूल रूप से एक चट्टानी पठार है। इस चट्टानी पठार का निर्माण लंबाई में 22 किलोमीटर और चौड़ाई 9 किलोमीटर है। गुरु शिखर जो कि माउंट आबू की सबसे ऊँची चोटी है, समुद्र तल से 5650 फीट ऊपर है जो लगभग 1722 मीटर है। गुरु शिखर में कई घने जंगल, झीलें, नदियाँ और झरने हैं और इसलिए इसे रेगिस्तान में नखलिस्तान माना जाता है।

How to Reach Mount Abu in Hindi

माउंट आबू कैसे पहुंचे

Mount Abu Wildlife Sanctuary

ट्रैन द्वारा माउंट आबू कैसे पहुंचे - How to reach Mount Abu By Train

मुख्य शहर से सिर्फ 28 किलोमीटर दूर आबू रोड यहाँ का सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन है, जो नई दिल्ली, अहमदाबाद, जयपुर और मुंबई के लिए रेल मार्गों द्वारा बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आबू रोड से आप राज्य परिवहन सेवा (आमतौर पर हर घंटे) या शेयरिंग और निजी दोनों आधार पर टैक्सी का विकल्प चुन सकते हैं।

हवाई जहाज द्वारा माउंट आबू कैसे पहुंचे - How to Reach Mount Abu By Flight

निकटतम हवाई अड्डा 185 किमी की दूरी पर उदयपुर है, लेकिन अहमदाबाद की देश के अन्य हिस्सों के साथ बेहतर कनेक्टिविटी और दैनिक उड़ानें हैं और माउंट आबू से सिर्फ 221 KM दूर है , अहमदाबाद या उदयपुर इन दोनो शहरो से आप टैक्सी और बस किसी भी तरह से माउंट आबू आराम से पहुंच सकते है ।

सड़क मार्ग द्वारा माउंट आबू कैसे पहुंचे - How to reach Mount Abu By Road

माउंट आबू देश के प्रमुख शहरों के साथ सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है, निकटतम राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या। 14 सिर्फ 24 KM दूरी पर है।

माउंट आबू में कहाँ ठहरे - Hotels in Mount Abu

एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल होने के कारण आप को माउंट आबू में रुकने की जगह ढूढ़ने में वैसे ज्यादा मुश्किल नहीं आएगी , क्यूँ की  आज गूगल मदद से आप दुनियां के किसी भी कोने में एक अच्छा सा होटल ढूंढ सकते है ।

रही बात माउंट आबू की तो दुनिया भर की ट्रेवल एप्प और वेबसाइट आप को ये सुविधा बहुत आसानी से  दिलवाती है एक तरीका तो ये होगया,  दूसरा तरीका है की मेरे हिसाब से अगर आप के पास समय है तो यहाँ पर धर्मशाला, लॉज , होटल सभी बने हुए है अगर आप यहाँ पर आकर थोड़ा मोलभाव करें तो आप को रुकने के लिए अच्छी जगह मिल सकती है, बाकी आप को कितना पैसा खर्च करना है वो आप पर है । बस आप को पीक सीजन के समय थोड़ी परेशानी हो सकती है तो इसका आप को थोड़ा ध्यान रखना पड़ेगा ।

माउंट आबू में दर्शनीय पर्यटक स्थल

Mount Abu Places To Visit

दिलवाड़ा जैन मंदिर माउंट आबू - Delwara Jain Temple Mount Abu

A Rare Document of Delwara temple | Click on Image For Credits

ताजमहल से भी ज्यादा सुंदर है दिलवाड़ा जैन मंदिर अपनी असाधारण वास्तुकला और अद्भुत संगमरमर के पत्थर की नक्काशी के लिए दुनिया भर में जाना जाने वाले सबसे बेहतरीन जैन मंदिर है, कुछ विशेषज्ञ इसे वास्तुशिल्प रूप के रूप में  ताजमहल से बेहतर भी मानते हैं।

बाहर से देखने पर यह काफी बुनियादी मंदिर लगता है, लेकिन जैसे ही आप इन मन्दिर के अंदर प्रवेश करते है, उस समय आपको भारत के प्राचीन वास्तुशिल्प और भारतीय वास्तुकारों की कला का  बेजोड़ संगम देखने को मिलता है , देलवाड़ा के जैन मंदिर का इंटीरियर मानव शिल्प के असाधारण काम को अपने सबसे अच्छे रूप में प्रदर्शित करता है।

इन मंदिरों का निर्माण 11 वीं से 13 वीं शताब्दी ईस्वी के बीच अलग-अलग समय में हुआ था, मंदिर के आसपास की खूबसूरत हरी-भरी पहाड़ियाँ बहुत ही सुखद एहसास देती हैं। यहाँ संगमरमर पत्थर पर की गई नक्काशी का सजावटी विवरण अभूतपूर्व और बेजोड़ है, न्यूनतम नक्काशीदार छत और स्तंभ सिर्फ अद्भुत की नहीं बल्कि ये सब आप के ऊपर एक अमिट छाप  भी छोड़ ते है और यह सब ऐसे समय में किया गया था जब माउंट आबू में 1200 मीटर की ऊंचाई पर कोई परिवहन या सड़क उपलब्ध नहीं थी।

संगमरमर के पत्थरों के विशाल खंडों को माउंट आबू के सुदूर पहाड़ी क्षेत्र अम्बाजी में अरासूरी पहाड़ियों से हाथी पीठ पर ले जाया गया था। दिलवाड़ा मंदिर एक लोकप्रिय जैन तीर्थ आकर्षण है।

दिलवाड़ा मंदिर परिसर पांच प्रमुख वर्गों या मंदिरों से युक्त है जो पांच जैन त्रिशंकरों (संतों) को समर्पित हैं

Old and Rare Documanted Image Of famous Delwara Temple | Click on Image For Credits

श्री महावीर स्वामी मंदिर -

इस मंदिर का निर्माण 1582 में हुआ था और यह जैन के 24 वें तीर्थंकर भगवान महावीर को समर्पित है, यह मंदिर अपेक्षाकृत छोटा है, मंदिर की ऊपरी दीवारों में वर्ष 1764 में सिरोही के कारीगरों द्वारा चित्रित पोर्च की तस्वीरें हैं।

श्री आदिनाथ मंदिर या विमल वसाही मंदिर

यह मंदिर 1031 ईस्वी में गुजरात के सोलंकी शासक के मंत्री विमल शाह द्वारा बनाया गया है, यह मंदिर सभी में सबसे पुराना है और श्री आदिनाथ जी को समर्पित है – पहला जी त्रिशंकर, मंदिर में एक खुला आंगन है संगमरमर के नक्काशीदार पत्थरों से खूबसूरती से सजाए गए गलियारों से घिरा हुआ आंगन।

इस मंदिर के अंदर की कोशिकाओं में जैन संतों की छोटी छवियां हैं, जिन्हें संगमरमर के पत्थर पर कलात्मक रूप से उकेरा गया है। आंतरिक गुंबद को खूबसूरती से डिजाइन करके  के फूलों और पंखुड़ियों से सजाया गया है, मंदिर के स्तंभों का विशाल हॉल संगीत वाद्ययंत्र बजाने वाली महिला आकृतियों के नक्काशीदार काम से सजाया गया है। मंदिर में “गुडा मंडप” भी है – श्री आदि नाथ के चित्रों से सजा हुआ एक साधारण हॉल।

श्री पार्श्वनाथ मंदिर या खरतर वसही मंदिर

यह मंदिर 1458-59 ईस्वी के बीच में मंडिका कबीले द्वारा बनाया गया था, इस मंदिर में सबसे बड़े मंदिर के साथ-साथ चार बड़े मंडप भी हैं। इस मंदिर के स्तंभों पर की गई नक्काशी इन जैन मंदिरों की वास्तुकला की श्रेष्ठता का एक और उदाहरण है।

श्री ऋषभदोजी मंदिर या पीथलहर मंदिर

इस मंदिर को पित्तलहरी / पीथलहर मंदिर के रूप में जाना जाता है क्योंकि इस मंदिर में अधिकांश मूर्तियाँ “पीतल” (brass metal) का उपयोग करके बनाई गई हैं। यह मंदिर भीम शाह द्वारा बनाया गया था, जो कि गुजरात राजवंश के एक मंत्री थे, दिलवाड़ा के अन्य मंदिरों की तरह इस मंदिर में गुडा मंडप और नवचौकी भी है।

 श्री नेमीनाथजी मंदिर या लूना वसाही मंदिर

यह मंदिर 1230 में बनाया गया था। तेजपाल और वास्तुपाल के रूप में जाने जाने वाले दो भाइयों द्वारा, उन्होंने इस मंदिर को जैन धर्म के 22 वें संत – श्री नेमनाथ नाथजी को समर्पित किया। इस मंदिर में राग मंडप नाम का एक हॉल है, जिसमें तीन सौ साठ (360) जैन मूर्तियों की छोटी मूर्तियाँ हैं, जिन्हें सभी ने संगमरमर से बनाया है, जो एक बार फिर साबित करती हैं कि दिलवाड़ा के ये जैन संगमरमर के मंदिर ताजमहल से बेहतर क्यों हैं, इन सभी के बीच सफेद संगमरमर की मूर्तियाँ हैं श्री नेमिनाथ जी की मूर्ति काले संगमरमर से बनी है। इस मंदिर के स्तंभों को मेवाड़ के महाराणा कुंभा ने बनवाया था।

Delwara Temple in Mount abu Luna Vashai | Click on Image For Credits

दिलवाड़ा जैन मंदिर देखने का समय - Delwara Jain Temple Visiting Time

दिलवाड़ा जैन मंदिर दोपहर के 12 P.M से खुलते हैं। जो की शाम 5 P.M  तक पर्यटकों के लिए मुफ्त दर्शन के लिए खुले रहते है, लेकिन विशेष बात ये है की मंदिर परिसर के अंदर कोई फोटोग्राफी करने की अनुमति नहीं है।

देलवाड़ा जैन मंदिर दर्शन का समय - Delwara Jain Temple Visiting Time

(देलवाड़ा जैन मंदिर में दर्शन के समय में  परिवर्तन संभव है, कृपया नीचे दिए गए फोन नंबर का उपयोग करके पुष्टि करें)

खुलने का समय: दोपहर 12:00 बजे

समापन समय: प्रातः 06:00 बजे

जैन के लिए कोई समय का प्रतिबंध नहीं

खुला: दैनिक (सार्वजनिक छुट्टियों पर भी)

संपर्क नंबर: + 91-2974-235151

देलवाड़ा जैन मंदिर प्रवेश शुल्क - Delwara Jain Temple Entry Fee

प्रवेश निःशुल्क 

नक्की झील माउंट आबू | Nakki Lake Mount Abu

02. नक्की झील / Nakki Lake :-

बारिश का मौसम हल्की-बूंदा बांदी और आप अपने प्रियजन के साथ शाम के वक़्त नक्की झील पर टहल रहे है वो समय आप के दिल ओर दिमाग पर हमेशा के लिए छप जायेगा कुछ ऐसी ही खूबसूरत शाम होती है इस जगह की ।

माउंट आबू के सबसे  सुंदर पर्यटन स्थल  में से एक नक्की झील है। और इसकी खूबी मीठा पानीराजस्थान की सबसे ऊँची झील और हाँ सर्दियों में अक्सर जम जाती है इसलिए कहते है की आप को अगर राजस्थान में कहीं बर्फ देखनी है तो सर्दियों में नक्की झील देखने आजाओ। कहा जाता है कि एक हिन्दू देवता ने अपने नाखूनों से खोदकर यह झील बनाई थी। इसीलिए इसे नक्की (नख या नाखून) नाम से जाना जाता है। झील के चारों ओर के पहाड़ियों का दृश्य अत्यंत सुंदर दिखता है।

इस झील में नौकायन का भी आनंद लिया जा सकता है। नक्की झील के दक्षिण-पश्चिम में स्थित सूर्यास्त बिंदू(Sunset Point) से डूबते हुए सूर्य के सौंदर्य को देखा जा सकता है। यहाँ से दूर तक फैले हरे भरे मैदानों के दृश्य आँखों को शांति पहुँचाते हैं। सूर्यास्त के समय आसमान के बदलते रंगों की छटा देखने सैकड़ों पर्यटक यहाँ आते हैं। प्राकृतिक सौंदर्य का नैसर्गिक आनंद देनेवाली यह झील चारों ओऱ पर्वत शृंखलाओं से घिरी है।

यहाँ के पहाड़ी टापू बड़े आकर्षक हैं। यहाँ कार्तिक पूर्णिमा को लोग स्नान कर धर्म लाभ उठाते हैं। झील में एक टापू को 70 अश्वशक्ति(Horsepower) से चलता है जिसमें विभिन्न रंगों में जल फव्वारा लगाकर आकर्षक बनाया गया है जिसकी धाराएँ 80 फुट की ऊँचाई तक जाती हैं। झील में नौका विहार की भी व्यवस्था है। झील के किनारे एक सुंदर बगीचा हैजहाँ शाम के समय घूमने और नौकायन के लिए पर्यटकों का हुजूम उमड़ पड़ता है।

पास ही में बनी दुकानों से राजस्थानी शिल्प का सामान खरीदा जा सकता है। यहाँ संगमरमर पत्थर से बनी मूर्तियों और सूती कोटा साड़ियाँ काफी लोकप्रिय है। यहाँ की दुकानों से चाँदी के आभूषणों की खरीददारी भी की जा सकती है।

Nakki Lake Mount abu

नक्की झील के पास में स्थितरघुनाथ मंदिर एक प्रसिद्ध धार्मिक तीर्थ स्थल है जो 14 वीं शताब्दी में बनाया गया था। यह मंदिर श्री रघुनाथ जी को समर्पित हैजिनके बारे में माना जाता था कि वे भगवान विष्णु के अवतार हैं और अपने अनुयायियों को सभी प्राकृतिक आपदाओं से बचाते हैं।

मंदिर का भ्रमण वैष्णवों और यात्रियों द्वारा किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि मंदिर जीवन के दर्द और पीड़ा से मुक्ति दिलाता है। अगर आप नक्की झील घूमने आये हुए है तो इस मंदिर के दर्शन जरूर करें इस मन्दिर के भित्ति चित्र और जटिल नक्काशियां मारवाड़ की संस्कृति और वास्तुकला की विरासत का उत्कृष्ट उदारहण प्रस्तुत करती है। इस मंदिर का मुख्य आकर्षण श्री रघुनाथ जी की भव्य मूर्ति है।

भक्तों के अलावा यहाँ प्रतिदिन बड़ी संख्या में पर्यटक भी आते हैं। नक्की झील का भ्रमण करने के लिए आने वाले पर्यटक श्री रघुनाथ जी मंदिर का भ्रमण भी करते हैं ताकि वे स्थापत्य कला के गवाह बन सकें।

नक्की झील प्रवेश का समय - Nakki Lake Timings

पर्यटक दिन के किसी भी समय नक्की झील देखें के लिए जा सकते है…

नक्की झील में प्रवेश शुल्क - Nakki Lake Entry Fees

प्रवेश निःशुल्क 

सनसेट पॉइंट माउंट आबू | Sunset Point Mount Abu

Sunset Point Mount Abu

शाम का वक़्त और ढलता हुआ सूरज और आप अपने दोस्तों के साथ आराम से माउंट आबू की चट्टानों पर बैठ अस्त होते हुए सूर्य की लालिमा को आराम से निहार रहे हो सोचने पर ही कितना आनन्द महसूस होता है इस एहसास के लिए आप को यहाँ पर आना पड़ेगा……

अचलगढ़ किला माउंट आबू - Achalgarh Fort Mount Abu

Achalgarh fort Mount Abu

कहने को तो सब इसे किला कहते है लेकिन जब आप यहाँ पर आते हो आप को सिर्फ मिलती है टूटी हुई दीवारें और कुछ दीवारों के अवशेष जो अपने जीवित होने का प्रमाण देती महसूस होती है लेकिन यहाँ पर आप लम्बे समय तक बैठ कर अरावली के पहाड़ो की खूबसूरती को निहार सकते है।

अचलगढ़ किला मध्ययुगीन स्मारकों में से एक हैकिला मूल रूप से परमार वंश के शासकों द्वारा बनाया गया था और बाद में 1452 ईस्वी में महाराणा कुंभा द्वारा अचलगढ़ का पुनर्निर्माणजीर्णोद्धार और नामकरण किया गया अचलगढ़ मुख्य माउंट आबू शहर से सिर्फ 8 किलोमीटर दूर है और सड़क द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

किले की हालात अब बहुत जर्जर है। किले के पहले द्वार को हनुमानपोल के नाम से जाना जाता है, जो निचले किले के प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता हैं। कुछ चढ़ाई के बाद, किले के दूसरा द्वार चंपापोल आ जाता है, जो आंतरिक किले के प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है।

किले के भीतर और आसपास ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व की कुछ विशेषताएं हैं। अचलगढ़ किले के ठीक बाहर अचलेश्वर महादेव मंदिर है जिससे जुड़ी हुई पौरणिक कथा है तथा भगवान शिव के पैर के अंगूठे की पूजा यहाँ की जाती है और इससे जुड़ी हुई पौरणिक कथा आप को यहाँ पर सुनने को मिल जाती है और मंदिर में प्रवेश करने पर एक पीतल के नंदी की प्रतिमा भी वहां स्थित है  जो की 5 धातुओं, गुना, चांदी, तांबे, पीतल और जस्ता से बनाया गया है। नंदी पंचधातु से बना है और इसका वजन 4 टन से अधिक है।

यह माना जाता है कि अचलेश्वर मंदिर 9 वीं शताब्दी में बनाया गया था और किंवदंती है कि यह भगवान शिव के एक पैर के अंगूठे के चारों ओर बनाया गया था। वहां पर एक गड्ढा भी है जिसके बारे में कहा जाता है की ये धरती के मध्य भाग तक पहुंचता है। मंदिर के बाहर की तरफ एक तालाब है और उसके के चारों ओर तीन पत्थर की भैंसें खड़ी हैं साथ ही जैसे ही आप किले में प्रवेश करते ही अंदर एक जैन मंदिर हैं, इनका निर्माण 1513 में हुआ था , अचलगढ़ से 10 मिनट की चढ़ाई आपको सुंदर और ऐतिहासिक जैन मंदिरों तक ले जाती है।

Achalgarh fort Mount Abu

अचलगढ़ फोर्ट देखने का समय - Achalgarh Fort Timings

सुबह 05:00 बजे से लेकर शाम को 07:00 बजे तक…

अचलगढ़ फोर्ट में प्रवेश शुल्क - Achalgarh Fort Entry Fees

प्रवेश निःशुल्क 

गुरुशिखर माउंट आबू | Gurushikhar Mount Abu

GuruShikhar Mount Abu

दूर-दूर तक बादल ही बादल और उन बादलों से ऊपर आपएक तरह से बादलों का समुद्र अगर आप माउंट आबू आ रहे है तो गुरुशिखर आये बिना सब कुछ बेकार है ।

माउंट आबू की सबसे ऊंची चोटी है गुरुशिखर जो समुद्र तल से 1722 मीटर की ऊंचाई पर स्थित हैअगर आप के मन में माउंटआबू आने की इच्छा हो रही है तो ये पक्का कर लेना की आप गुरुशिखर जरूर आना है नहीं आप ऐसी कोई इच्छा न करे तो ही अच्छा है गुरुशिखर बहुत  सारी सुंदर और ऐतिहासिक धरोहर को अपने आप में समेटे हुए है।

Infrared Observatory GuruShikhar Mount abu

गुरुशिखर आने के बाद आपको यह पक्का करना है कि आप गुरु दत्तात्रेय के मंदिर जाएँ। पश्चिमी भारतीय क्षेत्रों में कई हिंदुओं का मानना ​​है कि दत्तात्रेय एक भगवान हैं। उनका मानना ​​है कि दत्तात्रेय दिव्य त्रिदेव ब्रह्माविष्णु और शिव के अवतार हैं। दत्त शब्द का अर्थ है “दिया गया,” उन्हें दत्त इसलिए कहा जाता है क्योंकि दिव्य त्रिमूर्ति ने स्वयं को एक पुत्र के रूप में ऋषि दम्पत्ति अत्रि और अनसूया को आशीर्वाद स्वरूप प्रदान किया है। वह अत्रि का पुत्र हैइसलिए इसका नाम “अत्रेय” है।

यहाँ पर एक ऐतिहासिक घंटी है जिस पर 1488 विक्रम सम्वत (1411 AD) अंकित गया था। दुर्भाग्य से पुरानी घंटी बिखर गई है और इसकी जगह एक नई घंटी लगाई गई है । यदि आप गुरु शिखर के उत्तर-पश्चिम में थोड़ी दूर चोटी पर जाते हैंतो आप दत्तात्रेय की माता अहिल्या के मंदिर के दर्शन कर सकते है । देलवाड़ा मंदिर से गुरुशिखर की दूरी सिर्फ 12.9 KM है ।

गुरु शिखर देखने का समय - Gurur Shikhar Timings

सुबह 08:00 बजे से शाम को 06:00 बजे तक…

गुरु शिखर में प्रवेश शुल्क - Gurur Shikhar Entry Fee

प्रवेश निःशुल्क 

अधर देवी मंदिर माउंट आबू - Adhar Devi Temple Mount Abu

Adhar Devi Temple Mount Abu | Click on Image For Credits

लगभग 365 सीढ़ियां चढ़ने के बाद एक गुफा में स्थित है अधर देवी मंदिर, ये मंदिर भी अपने पौराणिक महत्व के कारण माउंट आबू क्षेत्र में लोकप्रिय धार्मिक पर्यटन स्थलों में से एक है। मुख्य शहर से इसकी दूरी मात्र 3 KM है। अधर देवी मंदिर तक पहुँचने के लिए आप को खड़ी सीढयों की चढ़नाई करनी पड़ेगी जो की थोड़ा मुश्किल हो सकती है,तो बीच बीच में आराम करना कोई बुरी बात नही है।

लेकिन जब आप मंदिर तक पहुंच जाओगे आप मेहनत बेकार नही जाएगी यहाँ की प्राकर्तिक सुंदरता आप का मन मोह लेती है , यह मंदिर एक प्राकृर्तिक गुफा में प्रतिष्ठित है, और गुफा में एक छोटे से द्वार के माध्यम से आप लेट कर पहुंचते है।

माउंट आबू के नाम को लेकर यहाँ पर एक पौराणिक कथा और प्रचलित है यहाँ के स्थानीय निवासियों के अनुसार माउंटआबू का नाम माता अर्बुदा देवी के नाम पर है। दरअसल अर्बुदा नाम का अपभ्रंश है आबू जिसके नाम पर माउंटआबू पर पड़ा। आबू पर्वत पर अर्बुदा देवी का मंदिर है जो देश की 52 शक्तिपीठों में छठा शक्तिपीठ है। अर्बुदा देवी देवी दुर्गा के नौ रूपों में से कात्यायनी का रूप है जिसकी पूजा नवरात्र के छठे दिन होती है।

पौराणिक कथाओं के मुताबिक जब भगवान शंकर ने पार्वती के शरीर के साथ तांडव शुरू किया था तो माता पार्वती के होठ यही गिरे थे। तभी से ये जगह अर्बुदा देवी (अर्बुदा मतलब होठ)यानी अधर देवी के नाम से प्रसिद्ध है। यह मंदिर साढ़े पांच हजार साल पुराना है। उल्लेखनीय है कि स्कंद पुराण में एक अर्बुद खंड भी है जिसमें अर्बुदांचल का पूरा जिक्र हैमाता अर्बुदा देवी को भवतारिणीदुखहारिणी,मोक्षदायिनी और सर्वफलदायिनी माना गया हैअधर देवी मंदिर देवी दुर्गा को समर्पित है।

एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल होने के साथ हीअधर देवी मंदिर एक धर्म तीर्थस्थल भी है। अधर देवी मंदिर में नवरात्रि के दिनों के दौरान अधिकांश दर्शनार्थी आते हैं।

अधर देवी मंदिर में दर्शन का समय - Adhar Devi Temple Timings

सुबह के 05 : 00 बजे से लेकर दोपहर के 12:00 बजे तक।

शाम को 04:00 बजे से लेकर रात के 08:00 बजे तक।

अधर देवी मंदिर में प्रवेश शुल्क - Adhar Devi Temple Entry Fee

प्रवेश निःशुल्क।

ट्रैवर्स टैंक माउंट आबू - Trevor's tank Mount Abu

Trevors-Tank-mount-abu
Trevers tank Mount Abu

बहुत ही सुहावना मौसम और अगर आप थोड़ा से इंतज़ार कर सकते है तो आप को यहाँ पर जंगली काले भालू देखने को मिल सकते है , ट्रैवर्स टैंक माउंट आबू के मुख्य शहर से केवल 5 किलोमीटर की दूरी पर एक सुरम्य जगह है यहाँ पर सैलानी मगरमच्छ देखने के लिये आते है लेकिन यहाँ पर आपका दूसरे जंगली जानवरों के दर्शन भी हो सकते है तो थोड़ी सावधानी रखनी पड़ेगी ,  माउंट आबू क्षेत्र के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है ट्रैवर्स टैंक।

इस जगह का नामकरण ट्रेवर नाम के एक ब्रिटिश इंजीनियर के नाम पर रखा गया था जो की बहुत ही प्रकृति प्रेमी थे। ट्रेवर ने मुख्यतया मगरमच्छों के प्रजनन के लिए इस जगह का निर्माण करवाया था। यहाँ पर आपको दुनियाभर के बहुत सारे प्रवासी पक्षियों की प्रजातियां भी दिखाई दे सकती है जो अपना प्रवास काल पूरा करने के लिए यहाँ आते रहते है, अगर आप के पास पर्याप्त समय है तो आप यहाँ पर घनी पहाड़िया और दलदली जगहों को देख सकते है , ट्रैवर्स टैंक पर पर्यटकों के लिए कई व्यू पॉइंट बनाये गए है जहाँ से आपको चटान पर बैठ कर धूप सकते हुए मगरमच्छ दिखाई दे सकते है ।

ट्रेवर्स टैंक देखेंने का समय - Trevor's Tank Timings

सुबह 09:00 बजे से लेकर शाम को 05:00 बजे तक।

ट्रेवर्स टैंक प्रवेश शुल्क - Trevor's Tank Entry Fee

ट्रेवर्स टैंक में भारतीय पर्यटकों से प्रवेश शुल्क 30/- प्रति व्यक्ति लिया जाता है।

माउंट आबू वन्यजीव अभयारण्य | Mount Abu Wildlife Sanctury

Mount Abu Wildlife Sanctuary

सन 1960 में लगभग 277 वर्ग किलोमीटर में फैले माउंट आबू को वन्यजीव अभयारण्य घोषित किया गया इसके दो मुख्य कारण थे एक तो यहां के वन्यजीव जिसमें से कई तो दुर्लभ श्रेणी में आ गए थे और यहाँ के घने प्राकर्तिक वानस्पतिक सम्पदा से भरपूर जंगल , दूसरा यहाँ आने वाले सैलानियों को यहाँ की प्रकृति से जोड़ने का प्रयास ।

माउंट आबू वन्यजीव अभयारण्य माउंट आबू का प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है। यहाँ मुख्य रूप से तेंदुए, स्लोथबियर, वाइल्ड बोर, साँभर, चिंकारा और लंगूर पाए जाते हैं। यहाँ पक्षियों की लगभग 250 और पौधों की 110 से ज्यादा प्रजातियां देखी जा सकती हैं। पक्षियों और वन्यजीवों में रुचि रखने वालों के लिए उपयुक्त जगह है।

माउंट आबू वन्यजीव अभयारण्य में कई दर्शनीय स्थल है, बहुत से पर्यटक यहाँ की समृद्ध प्राकर्तिक सम्पदा और वन्यजीव जंतु और पक्षियों के लिए आते हैं। यह अभयारण्य फूलों की सुंदरता से भरा हुआ एक सदाबहार जंगल है जिसके दूसरी तरफ झरने और घाटियां है।

माउंट आबू वन्यजीव अभ्यारण्य में प्रवेश का समय - Mount Abu Wildlife Sanctuary Timings

सुबह 09:00 बजे से लेकर शाम को 05 : 00 बजे तक…

माउंट आबू वन्यजीव अभ्यारण्य में प्रवेश शुल्क - Mount Abu Wildlife Sanctuary in Entry Fee

जीप सफारी का शुल्क 300-600 रुपये लिया जाता है…

Mount Abu Wildlife Sanctuary

गौमुख मंदिर माउंट आबू - Gaumukh Temple Mount Abu

Gaumukh Mount Abu

माउंट आबू की यात्रा एक ऐसी जगह की यात्रा है जो को सिर्फ एक पर्यटक स्थल या सिर्फ घूमने फिरने की जगह ही नहीं बल्कि यहाँ का इतिहास भौगोलिक स्थिति या फिर यहाँ के धार्मिक स्थल जो की यहाँ की मान्यताओं यहाँ के रीति रिवाजों या फिर में ये कहूंगा की आप ऐसी जगह पर आ रहे है जो आप को मानव विकास से लेकर धार्मिकप्राकर्तिक या फिर इस देश की पौराणिक मान्यताओ के पास ला कर खड़ा कर देती है ।

कुछ ऐसी ही जगह है यहाँ का प्रसिद्ध गोमुख मंदिर लगभग 700 सीढ़ियों की लंबी यात्रा करके आप इस प्राकर्तिक रूप से समृद्ध पवित्र जगह पर पहुंचते है ।

गौमुख मंदिर के निर्माण को लेकर संत वशिष्ठ से जुड़ी हुई धार्मिक मान्यता ये है की इस जगह पर उन्होंने एक यज्ञ किया था जिसमें चार प्रमुख राजपूत वंशों की रचना हुई थी। यहाँ एक कुंड भी है अग्नि कुंड, जहाँ संत वशिष्ठ उस में यज्ञ किया करते थे जिससे चार कुलों का जन्म हुआ था।

यहां आकर्षण मुख्य केंद्र है यहाँ निरंतर बहने वाला झरना जो गोमुख मंदिर परिसर में स्थिति एक गाय की मूर्ति है जिसके सिर के ऊपर प्राकृतिक रूप से एक धारा बहती रहती है। इसी कारण इस मंदिर को गोमुख मंदिर कहा जाता है। मंदिर में अरबुआदा सर्प की एक विशाल प्रतिमा है। संगमरमर से बनी नंदी की आकर्षक प्रतिमा तथा संत वशिष्ठ, भगवान राम और भगवान कृष्ण की प्रतिमाएं मिलेंगी। यह क्षेत्र बहुत ही घने वनों से आच्छादित है और अंधेरे और बरसात के मौसम के बाद इस स्थान पर जाना उचित जानकारी और स्थानीय मार्गदर्शन के बिना जाना उपयुक्त नहीं है।

गौमुख मंदिर माउंट आबू दर्शन का समय - Gaumukh Temple Mount Abu Timings

सुबह 06:00 बजे से लेकर शाम को 06:00 बजे तक…

गौमुख मंदिर माउंट आबू प्रवेश शुल्क - Gaumukh Temple Mount Abu Entry Fee

प्रवेश निःशुल्क

टोड रॉक माउंट आबू | Toad Rock Mount Abu

Toad Rock Mount Abu | Click on Image For Credits

अगर आप को रॉक क्लाइम्बिंग जैसे रामोंचक खेल पसंद है तो आप को यहाँ पर जरूर जाना चाहिए टोड रॉक माउंट आबू का एक जाना माना पर्यटन स्थल है जो नक्की झील के पास स्थित एक बड़ी चट्टान है। इस बड़े पत्थर  का आकार मेंढक से मिलता है इसलिये ये जगह टोड के नाम से जानी जाती है वैसे ये माउंट आबू की पहचान भी है क्यूँ की जो लोग पहले माउंट आबू नही आये है वो लोग एक इस जगह पर एक बार आना जरूर पसंद करते है और अपनी माउंट आबू की wish list में इस जगह का नाम जरूर रखते है ।

इसके अलावा टोड रॉक के आसपास कई  छोटी चट्टाने और भी हैं जिनमें प्रमुख रूप से कैमल रॉकनंदी रॉक और नून रॉक आते हैं। ये चट्टानें ट्रेकिंग के लिए उपयुक्त है। इन चट्टानों के ऊपर पहुँचने पर पर्यटक नक्की झील और उसके प्राकर्तिक का सुंदर दृश्य देख सकते हैं।

Wildlife Sanctuary Mount Abu

माउंट आबू में घूमने का सही समय- Best Time To Visit Mount Abu

अगर आप को गर्मी पसंद नहीं है , और राजस्थान में जमी हुई झील देखनी है तो में आप को बतादूँ की जुलाई से लेकर फरवरी तक आप कभी भी माउंट आबू आ सकते है, बाकी हर तरफ हरियाली और जंगल ही जंगल और अरावली पर्वतमाला का सबसे बड़ा पर्वत होने के कारण आप माउंट आबू कभी भी आ जाओ ये पर्वत आप का स्वागत करने को हमेशा तैयार रहता है ।

बाकी माउंट आबू घूमने के लिए आप एक दिन में भी पूरा घूम सकते हो लेकिन अगर यहाँ की पुरानी विरासत को एकदम पास से देखना है तो आप यहाँ पर कम से कम 3-4 दिन का समय निकाल कर के आये ।

माउंट आबू में क्या करें-क्या ना करें - Things To Do In Mount Abu

01 बारिश के मौसम में छाता लेकर आये,यहाँ बारिश ज्यादा होती है।

02 यहाँ सर्दी के मौसम में सर्दी भी ज्यादा होती है इसलिए गरम कपड़े जरूर लाये।

03अगर इतिहास पसंद है तो लोकल गाइड करले पर मोलभाव करना न भूले ।

04पर्यटक स्थल होने के कारण मार्केट मंहगा है खरीदारी सोच समझ कर करें ।

05 रात को खुले में अकेले न घुमे जंगली जानवर आप का स्वागत कर सकते है ।

06 जंगल में जाने से पहले पूरी सावधानी रखें ।

07 होटल में रुकने से पहले अच्छे से मोलभाव करें आप को अच्छा फायदा होगा ।

08 जंगल का और जंगली जानवरों का सम्मान करें ।

09 जानवरों को अपने हाथो से कुछ न खिलाये ।

10 प्लास्टिक का उपयोग न करें ऐसा करके आप प्रकर्ति और यहाँ की जलवायु को साफ सुथरा रखने में सहायता कर सकते है ।

माउंट आबू में स्थानीय बाज़ार - Local Market in Mount Abu in Hindi

माउंट आबू एक ऐसा स्थान है जहाँ खरीदारी के बाजार राजस्थानी हस्तशिल्प से भरे हुए हैं और ज्यादातर हस्तशिल्प के चीज़ें धातु और लकड़ी के बनी हुई हैं और यहाँ आप और भी कई चीजें भी खरीद सकते हैं जो पड़ोसी राज्य गुजरात से लाई गई हैं।

और माउंट आबू के बाजारों से आप कोटा साड़ी, लाख और पत्थर की वर्क वाली चूड़ियाँ, ऐपरेन्स और सांगानेरी प्रिंट्स के साथ स्थानीय हाथ से तैयार ड्रेस सामग्री, गर्म रजाई, जो जयपुर से प्रसिद्ध हैं और घर की सजावट और उपहार देने से संबंधित अन्य सामान हैं जैसे चंदन संगमरमर, और बलुआ पत्थर आदि भी खरीद सकते है ।

नक्की झील बाजार,खादी भंडार, राजस्थली,कश्मीर कॉटेज संग्रहालय माउंट आबू के मुख्य बाजार है बस आप को इतना ध्यान रखना है की माउंट आबू का बाज़ार अपेक्षाकृत महंगा है |

माउंट आबू में स्थानीय भाषा - Local Market In Mount Abu in Hindi

राजस्थान और गुजरात की सीमा पर स्थिति होने के कारण यहाँ की मुख्य भाषा राजस्थानी और गुजराती दोंनो है , बाकी एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल होने के कारण सामान्तया यहाँ के लोग हिंदी बोलते है ।

Achalgarh fort Mount Abu

माउंट आबू के नजदीकी पर्यटक स्थल - Nearby places to visit in Mount Abu in Hindi

अगर आप एक लंबी छुट्टियों पर आये हुए या आप को घूमना बहुत पसंद है तो माउंट आबू के आसपास बहुत सारे पर्यटक स्थल है जो की राजस्थान और गुजरात दोनों राज्यों में स्थिति है ।राजस्थान में आप उदयपुर Part-01 , उदयपुर Part-02, उदयपुर Part-03, उदयपुर Part-04 सिटी पैलेस, जोधपुर , रणकपुर , सादड़ी में परशुराम महादेव मंदिर , चित्तौड़गढ़ , नाथद्वारा , कुम्भलगढ़ किलाकुंभलगढ़ वन्यजीव अभ्यारण और गुजरात में अम्बा जी और अहमदाबाद ।

(अगर आप मेरे इस आर्टिकल में यहाँ तक पहुंच गए है तो आप से एक छोटा से निवदेन है की नीचे कमेंट बॉक्स में इस लेख से संबंधित आपके सुझाव जरूर साझा करेंऔर अगर आप को कोई कमी दिखे या कोई गलत जानकारी लगे तो भी जरूर बताए।  में यात्रा से संबंधित जानकारी मेरी इस वेबसाइट पर पोस्ट करता रहता हूँअगर मेरे द्वारा दी गई जानकारी आप को पसंद आ रही है तो आप अपने ईमेल से मेरी वेबसाइट को सब्सक्राइब जरूर करेधन्यवाद )

This Post Has 2 Comments

  1. Very good and informative.
    Thank you for sharing this

    1. Thank You very Much

Comments are closed.

Close Menu